Chivalry, Thy Name is Man

Yesterday I had  written a poem for women. Today ‘s depiction is  dedicated to men. However , as  this is not a first hand experience, it may be off the mark. Please bear with me.

शादी का नगाड़ा जो किसी ने बजाया
एक अदद टट्टू को घोड़ी पर बिठाया
बेसाख्ता मुझको वो समय याद आया
मंडप में बलिवेदी जब गया मैं चढ़ाया

             पत्नी सुन्दर फूल सी, मैं हो गया निहाल
             सपनों में ही बीत गए, कुछ सुखद साल
             अगामी दिनों ने किया, पर वो  मेरा हाल
             आड़ी-तिरछी हो गई,  सीधी सादी चाल

फूल के फूल हो गया, गोभी का फूल
मेरे सारे खर्चे उसे, लगने लगे फिज़ूल
उसने कर ली जेब से अठन्नी भी वसूल
दोस्तों की महफिलें, हाय! गया मैं भूल
              
              अक्सर रोज़ देर से दफ़तर मैं ञाता
              सुबह-सुबह बाॅस की फटकार खाता
              देर रात जाग कर मुन्ने को टहलाता
              बीवी और मां का मुक्दम्मा निपटाता

पढ़ाई  मे बच्चे  दर्जा चढ़ते गए
परवरिश में खर्चे और बढ़ते गए
करनी थी अपनी सो भरते गए
चंदिया के बाल सारे झड़ते गए

                  काश! मालिक सेब का पौधा न बोता
                  ईव के लफड़े में एडम आपा ना खोता
                  किस्सा हुस्नो-इश्क का अगर ये न होता
                   मस्त  मगन  मैं भी चैन की नींद सोता ।।

image

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s