हेल्थ-बुलेटिन

रत्ना की रसोई का चुल्हा पूरे तीन महिनों से ठंडा पड़ा था। भई क्यों ? वो हुया यूँ कि व्यस्तताओं का बोझ इस कदर बढ़ा कि हमारी लिखने की चाहत उसके तले दब कर रह गई। राम राम करते बोझ को थोड़ा निपटाया और कुछ सरकाया तो पाया कि महिनों तक पोषण न मिलने के काऱण हमारी सृजनचाहअधमरी हो चुकी हैै। हमने कई बार चाय और काफी के छींटें मारे, स्नैक सूंघाऐ, बढ़िया डायरी मंगवाई, चकाचक कलम कसवाई, दिमाग को दौड़ाया, सिर को खुजाया, बाल नोचे, ढेरों विषय सोचे पर नेट रिजल्ट ज़ीरो रहा।

हमारी लम्बी उपेक्षा से बेचारी इतनी आहत हो गई थी कि आँखें खोलने का नाम ही नहीं ले रही थी। हमने भी सोचा मरने दो ससुरी को। अच्छा है बला टली। रोज़ इसके चक्कर में दो चार घंटे ग़रक हो जाते थे। पति और बच्चों से फजीहत, सासससुर की नसीहत, दोस्तों के उलाहनों और दबी आवाज़ में मिलते तानों इन सब से छुट्टी पा, अब हम मज़े से एकता कपूर के सीरियलज़ में मन रमाएंगें और जीवन दर्शन की प्ररेक्टीकल नोलिज़ पाएंगें।

कुछ दिन बड़े आराम से कटे, साथियों से सुख दुख बंटे। चैन की बंसी बजी, टेबल नएनए पकवानों से सजी। खाने वाले तो मुस्कुराने लगे किन्तु हम मन ही मन छटपटाने लगे। धीरे धीरे दिनचर्या बेजान हुई, जिन्दगी विरान हुई और उकता कर हम, अन्तिम सांसे लेती अपनी सृजनचाहमें नई शक्ति फूंकने के लिए, उसे सिर पर लाद कर देशाटन पर निकल पड़े।

आबोहवा बदली तो मामला पटने लगा, कन्फ्यूजन का कोहरा छटने लगा। होश में आते ही वो कुछ- कुछ बड़बड़ाने लगी और उसे नारद परिवार की याद सतानेे लगी। लिहाज़ा  हम उसे लेकर आपके पास वापस लौट आए है।

ताज़े हेल्थबुलेटिन के अनुसार हालत में अब सन्तोष जनक  सुधार है। विशेषज्ञों का विचार है कि यदि टिप्पणियों का टानिक प्रेम से पिलाया जाए तो आश्चर्य जनक परिवर्तन की आशा की जा सकती है।

                 शेष सृजनशक्ति के भलीचंगी होने पर

 

Advertisements

13 responses to “हेल्थ-बुलेटिन

  1. स्वागत है फ़िर से आपका….
    आपके बनाये पकवान खाये बहुत समय हो गया है

  2. यह लिजिये टिप्पणी टॉनिक-ताकत आयेगी. यह गद्य वृतांत भी बिल्कुल पद्यमय है-स्वागत है आपका वापिसी पर. अब शुरु हो जायें. 🙂

  3. स्वागत है! आपका बार-बार स्वागत है! फिर से लिखना शुरू करिये दनादन!

  4. बच्चों को भूखे मार दिया ये भी नहीं सोचा कि बच्चे मारे भूख के बिलख रहे होंगे…और तो और टॉनिक भी आपको चाहिये??? जाईये नहीं देते पहले बच्चों की तीन महीने की भूख मिटाइये फिर आपको टिप्पणी टॉनिक देंगे………….. अरे यह क्या आपको टॉनिक का डोज दे ही दिया गलती से।
    कोई बात नहीं आज दे दिया आगे से नहीं देंगे, जब तक तीन महीने की कसर नहीं निकल जाती। 🙂

  5. कितनी टिप्पणियों मिलें तो आश्चर्य जनक परिवर्तन की आशा की जा सकती है?

  6. ज़बरदस्त !!
    और क्या कहे!
    बस ऐसा लगता है आपने हमारा भी हाल-ए-दिल सुना डाला।

  7. अरे कहाँ टहल गयी थी आप?
    इत्ते दिन हो गए, आपके ढाबे का खाना खाए हुए। अब आते ही हैल्थ वैल्थ की बाते करने लगी आप। अरे भाई जल्दी से परोसिए, भूख लगी है तेज!

  8. नारद पर आपकी पोस्ट देखा, यूं मेहसूस हुआ कि बहुत दिनों बाद कुछ खाने को मिला 😉 स्वागत है आपका

  9. अरे तीन महीनों में बच्चे कुपोषित हो गए हैं बेचारे यहाँ बार बार आएँ और देखें तो रसोई का दरवाजा बंद। सोचिए आप भूखे बच्चों को रसोई बंद मिले तो कैसा लगता होगा। इतने दिनों से इधर उधर भटक रहे हैं और उन्हीं से टॉनिक माँग रहीं हैं। इस बार तो भूखे बच्चे टॉनिक दिए देते हैं पर आपको रोज नए नए व्यंजन पका कर इतने दिनों की कमी पूरी करनी होगी।

  10. लीजिये एक विटामिन की गोली मेरी तरफ से भी! मै यहाँ आई और आप गायब हो गईं! अब कुछ दिनो साथ दीजियेगा..

  11. लीजिये, लीजिये और टॉनिक लीजिये। यह तो बाता दें कि डॉक्टर ने कितनी बार के लिये कहा है, कहिये तो दिन में तीन-चार बार भी यह टिप्पणी-टॉनिक दे दिया जाय!

    वैसे यह रचना अपने आप में भी जानदार है, बस एक कमी ज़रूर लगती है। इसके रूप (Formatting) को ऐसा रखें कि यह लगे पद्य ही। मसलन… नये वाक्य का प्रारम्भ नयी पंक्ति से करें तो यह लेख रूपी पद्य, अपेक्षाकृत और सुन्दर लगेगा

    सर्जना-शक्ति के शीघ्रातिशीघ्र स्वास्थ्य-लाभ की शुभ-कामनाओं (और फल-पुष्प आदि भी) के साथ –

  12. अब और कितनी देर लगेगी भई

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s